Midi Keyboard Kya hai ? मिडी कीबोर्ड क्या है ? पूरी जानकारी हिंदी में

Midi Keyboard

हेल्लो दोस्तों, आज हम बात करने जा रहें है एक ऐसी चीज के बारे में जिसका Music Production और Music Studio में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता है. यह वस्तु है “Midi Keyboard“.

आज हम इसी विषय पर चर्चा करेंगे कि आखिरकार ये Midi Keyboard क्या है ? कैसे काम करता है ? Midi कीबोर्ड को कैसे Use किया जाता है ? मिडी कीबोर्ड Music बनाने लिए सबसे जरुरी Instrument होता है.

आज के दौर में New Technology आ जाने से Music Digital तरीके से बनाया जाता है, Produce किया जाता है. पुराने समय में अगर बात करें कुछ साल पहले की तो उस समय Recording करना बहुत ही थका देने वाला काम था.

पहले के समय में Live Recordings हुआ करती थी, जिसमे काफी समय लगता था, साथ ही बहुत सारे Instruments को Carry करना पड़ता था. किसी बड़े से Theater में Recordings हुआ करती थी.

और फिर उन रिकॉर्डिंग में काफी समय भी लगता था, क्यूंकि लाइव रिकॉर्डिंग में सब कुछ परफेक्ट नही हो पता था.

मगर आज के समय में एक छोटे से Studio में बेठकर ही गाने बनाये जाते है. वो सिर्फ इसी वजह से के आज के समय में Digital तरीके से Music Produce किया जाता है.

अब ऐसे Instruments आ गये हैं जिन्हें किसी Audio Interface की मदद से Connect करके आप किसी भी Instrument की आवाज़ प्राप्त कर सकते हैं. जिससे Music बनाना बेहद आसान हो गया है.

Midi कीबोर्ड भी एक ऐसा ही Instrument है,जिसके बिना Music Studio अधुरा है. अगर आप भी म्यूजिक बनाने में Interested हैं या अपना खुद का Music स्टूडियो बनाने के बारे में सोच रहें हैं, तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें.

हम इस आर्टिकल में आपको Midi कीबोर्ड के बारे में A to Z information आपको देंगे. जिससे मिडी-कीबोर्ड से सम्बंधित सारी जानकारी आपको मिल पाएगी.

आईये अब समझते है.

Midi Keyboard Kya hai ? मिडी कीबोर्ड क्या है ? कैसे काम करता है ?

Musical Instrument Digital Interface (MIDI) Musical Instruments के साथ कंप्यूटर को जोड़ने के लिए एक मानक प्रोटोकॉल है.” Dave Smith (जोकि founder of Californian synth legend Sequential Circuits हैं और अब Head of Dave Smith Instruments हैं) ने Midi मानक का पहला संस्करण विकसित किया, जिसे 1983 में जारी किया गया था।

मिडी Keyboard Computer कीबोर्ड से बिलकुल अलग होता है. जिस प्रकार किसी Piano में काले और सफ़ेद रंग की कुछ Keys या Button होते है,जिन्हें Press करने पर एक Music उत्पन होता है. उसी प्रकार मिडी Keyboard में भी काले और सफ़ेद रंग की Keys होती हैं. लेकिन इसमें कुछ भिन्नता है.

मिडी-कीबोर्ड में जब हम किसी Key को Press करते हैं तो उससे Produce(उत्पन) होने वाला Music हम सुन नहीं पाते. ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि मिडी Keyboard में Casio की तरह Speakers नही होते.

जिसका मतलब यह है कि Midi कीबोर्ड एक ऐसा इंस्ट्रूमेंट है जिसे हम USB Cable की मदद से अपने Laptop या Computer या फिर किसी ऑडियो इंटरफ़ेस से Connect करके Speakers के जरिये सुन सकते हैं.

एक मिडी-कीबोर्ड को जब हम किसी Laptop से Connect करते हैं और Midi कीबोर्ड को Play करते हैं तो यह कीबोर्ड Laptop में एनालॉग सिग्नल भेजता है और Laptop या ऑडियो इंटरफ़ेस उन एनालॉग सिग्नल्स को Digital सिग्नल्स में convert करके फिर Speakers के जरिये Sound करता है जिसे हम सुन पाते हैं.

Analog और Digital Signal क्या है ? (जरुर पढ़ें)

मान लीजिये अगर आपको अपने Music Studio में Computer की Help से किसी Music Software या डिजिटल ऑडियो वर्कस्टेशन के द्वारा कोई Music Track बनाना है, तो Music बनाने के लिए आपको Midi कीबोर्ड को Audio Interface से Connect करना होगा.

मिडी-कीबोर्ड कनेक्ट करने के बाद जब आप अपने मिडी-कीबोर्ड से Key प्रेस करेंगे, तो इसके द्वारा MIDI Signals Music Software में भेजे जाएँगे, और जब म्यूजिक सॉफ्टवेर उन प्राप्त हुए मिडी सिग्नलस को Computer के Sound card में भेजेगा तो Computer सिस्टम में एक प्रोसेस होगा और Speakers के द्वारा ऑडियो हमे सुनाई देगा.

अब जब हम यह समझ गये है की मिडी कीबोर्ड क्या है और कैसे काम करता है. आईये अब जानते हैं कि एक मिडी-कीबोर्ड को इस्तेमाल क्यूँ करते है ?

Midi Keyboard को इस्तेमाल क्यूँ करते हैं ? या मिडी किबोर्ड का क्या उपयोग है ?

मिडी-कीबोर्ड का इस्तेमाल ज्यादातर किसी Music Track में अलग अलग Music Instruments की Sound देने के लिए किया जाता है.

जब हम अपने Music Studio में Music Software की मदद से Recording या Mixing करते हैं, तो आपको यह पता होगा कि इन Music सॉफ्टवेर में या जिसे Daw (Digital Audio Workstation) भी कहते हैं. इन Software’s में बहुत प्रकार के म्यूजिकल Instruments के Vst (Virtual Studio Technology) Plugin होते हैं.

अगर हमें Daw यानि किसी म्यूजिक सॉफ्टवेर में किसी Instrument की साउंड को डिजिटल (Virtual) तरीके से Produce करना होता है. तो हमें उस Instrument का Vst Plugin Download करना होता है.

और फिर Download होने के बाद उसे Daw में Add करना होता है. हम इन Vst Plugin के द्वारा किसी भी Musical इंस्ट्रूमेंट को डिजिटल (Virtual) तरीके से इस्तेमाल कर सकते हैं. वेसे कईं बार ये Plugin आपको ऑडियो इंटरफ़ेस के साथ आने वाले सॉफ्टवेर के साथ भी मिल जाते है.

इन Digital यानि Virtual Instruments (Vst Plugin) को इस्तेमाल करने के लिए हमे मिडी Keyboard कि जरूरत होती है. इसकी मदद से ही विभिन्न प्रकार के Instruments की Sounds को रिकॉर्ड किया जाता है.

मान लीजिये आप किसी Music प्रोजेक्ट पर कम कर रहें हैं, जिसमे आपको किसी Flute या Saxophone की आवाज(Sound) भी चाहिए. तो इसके लिए आपको Online किसी Website से इन Instruments के Vst Plugin को डाउनलोड करना होता है.

फिर इस Download किये गये Plugin को Daw में Add करना होगा. उसके बाद आपको मिडी-कीबोर्ड को ऑडियो इंटरफ़ेस से कनेक्ट करना होगा, फिर आपको Daw में उस Instrument के Vst Plugin को Select करना होगा जिसकी साउंड आप Use करना चाहते हैं.

फिर जब आप मिडी-कीबोर्ड की Key Press करेंगे तो आपको उसी इंस्ट्रूमेंट की आवाज सुनने को मिलेगी जिसे आपने Select किया है.

इस तरह से आप अपने म्यूजिक प्रोजेक्ट में किसी भी म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट की आवाज को मिडी Keyboard के द्वारा Use कर सकते हैं. आसान शब्दों में अगर कहें तो Musical Instruments को Virtual तरिके से इस्तेमाल करने के लिए Midi Keyboard की जरूरत पड़ती है.

Parts Of मिडी Keyboard मिडी कीबोर्ड के भाग :

जैसा की आप जानते ही हैं कि यह एक कीबोर्ड की तरह होता है. देखने में लगभग यह Casio की तरह लगता है. आईये जानते हैं मिडी-कीबोर्ड के पार्ट्स के बारे में :

  • Keys : इसमें आपको बहुत सी Keys मिलती है. जिसमे ब्लैक और वाइट (सफ़ेद) रंग की Keys होती है. जिन्हें दबाकर ही Virtual Music तैयार किया जाता है. इसमें Keys Category के हिसाब से होती है. जैसे 25 keys, 32keys, 49keys, 61keys, and 88keys वाले कीबोर्ड देखने को मिलते हैं. जिन्हें आप खरीद सकते हैं.
  • Cable : इसके साथ आपको Cable भी मिलती है जिसकी मदद से आप इसे Computer या किसी Audio Interface के साथ Connect कर सकते हैं.
  • Controls : इसमें आपको मिडी सिग्नल्स की क्वालिटी को Control करने और ऑडियो इफेक्ट्स को अपने हिसाब से सेट करने के लिए कुछ Knobs,Buttons,Fader और Pads Button दिए होते हैं. जिनके द्वारा आप अपने Music प्रोजेक्ट के हिसाब मिडी सिग्नल्स को कण्ट्रोल कर सकते हैं.

मिडी-कीबोर्ड को कैसे लगायें ?

जब भी हम कोई मिडी-कीबोर्ड खरीदते हैं तो उसके साथ आपको Box के अंदर कुछ केबल्स मिलती हैं. वैसे ज्यादातर कीबोर्ड्स के साथ USB Port वाली तार (Wire) होती है. जिसका एक सिरा आप कीबोर्ड के साथ साथ लगाते हैं और दूसरा सिरा आप Laptop या ऑडियो इंटरफ़ेस के साथ कनेक्ट करते हैं.

इनको चलाने के लिए आपको कोई अलग से पॉवर सप्लाई कि जरूरत नहीं पड़ती. इनके लिए Computer या किसी इंटरफ़ेस से Usb Port से आने वाली पॉवर ही काफी होती है.

Conclusion (निष्कर्ष):

आपने इस आर्टिकल में मिडी कीबोर्ड के बारे में विस्तार से पढ़ा. इन कीबोर्ड्स का Music Production में बहुत अहम रोल है. इनके होने से किसी भी म्यूजिक ट्रैक को बनाने में काफी मदद मिलती है.

आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट(Comment) करके जरुर बताएं. Article पढने के लिए आपका धन्यवाद. इसी तरह ओर जानकारी पाने के लिए हमारे साथ जुड़े रहें.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *