Microphone (Mic) क्या है? माइक्रोफोन कितने प्रकार का है? कैसे काम करता है ?

Microhone क्या है

दोस्तों आज हम आपको बताने वाले है कि Microphone क्या है ? कैसे काम करता है और माइक्रोफोन कितने प्रकार का होता है? आपने कहीं ना कहीं Mic का इस्तेमाल होते हुए या Mic के बारे में जरुर सुना होगा या किसी Function या किसी Concert में जरुर देखा होगा.

शायद आप जानते भी होंगे कि जो Mobile और Headphones हम इस्तेमाल करते हैं, उन में भी एक माइक्रोफोन होता है. जिसके द्वारा हम अपनी बात दूसरों से केह पाते हैं या अपनी आवाज़ रिकॉर्ड कर पाते हैं.

आईये अब Detail में जानते हैं Microphone के बारे में.

Microphone क्या है ? कैसे काम करता है ?

जैसा की आपको पता ही होगा कि माइक्रोफोन का आविष्कार 1876 में, एमिली बर्लिनर (Emile Berliner) ने किया था. “Microphone एक ऐसी Device है, जो आपकी आवाज को Electronic सिग्नल्स (Analog Signal) में Transfer करता है.

यह बदले हुए Electronic Signals बाद में किसी Amplifier, Computer, Mobile Phone , या किसी Audio Interface के द्वारा इन Signals को Analog या Digital Signal में Convert करते हैं जिससे हम आवाज (Sound) को सुन पाते हैं.

अब समझते हैं कि ये Analog और Digital Signal क्या होते हैं ?

Analog Signal क्या है ?

Analog सिग्नल एक लगातार चलने वाली Wave (तरंग ) हैं और यह तरंग समय के साथ बदलती रहती है.

Mobile Phone पर हमारी आवाज़ को एक एक स्थान से दुसरे स्थान तक भेजना इन एनालॉग Signals के द्वारा हो पाता है. मानव कि आवाज भी एनालॉग सिग्नल का एक मुख्य उदाहरण है.

Digital Signal क्या होते हैं ?

Digital सिग्नल कुछ हद तक Analog सिग्नल से अलग होते है. डिजिटल Signal Computer Processing के लिए बहुत जरूरी है इस का उपयोग बाइनरी (0 और 1) के रूप में होता है।

डिजिटल Signal को सरल तरंगो में विघटित किया जा सकता है जिन्हें Harmonics भी कहते हैं.Digital Signal एक समान संरचना को बनाए रखते हैं, जो निरंतर और सुसंगत संकेत प्रदान करते हैं।आजकल सारी Machines Digital Signals पर ही काम करती हैं।

सभी Microphones में एक कॉमन बात होती है कि वो बाहरी दुनिया की आवाज़ को पहले तो Analog Signals में बदलते है, और फिर किसी Audio Interface के जरिये इन एनालॉग सिग्नलस को डिजिटल सिग्नल्स में बदलता है, जिसे मानव समझ सके और सुन सके।

Microphone कितने प्रकार का होता है? Types Of Microphone

यूँ तो आज के समय में कईं तरह के माइक्रोफोन देखने को मिलते हैं. लेकिन शायद आप यह नही जानते होंगे कि इन भिन्न प्रकार के Mic का इस्तेमाल अलग-अलग तरीके से किया जाता है. हर माइक्रोफोन का अपना अलग इस्तेमाल है.

आईये जानते हैं इन Microphones के बारे में :

  1. Dynamic Microphones
  2. Condenser Microphones
  3. Ribbon Microphones

Dyanmic Microphone क्या है ?

Microhone क्या है

Dynamic Microphone सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले Mic हैं. जो ज्यादातर होने वाले Programs में सबसे अधिक Use होता है.

डायनामिक माइक्रोफोन में एक सरल Design होता है, जिसमें धातु की एक Coil (कॉइल) से लिपटा हुआ चुंबक (Magnet) होता है।

एक पतली सी शीट जिसे Diaphragm कहते हैं , Magnet के सामने की तरफ रखी जाती है और कॉइल में Vibration को ध्वनि तरंगों से Sound Wave में Transmit करता है या भेजता है।

फिर ये Coil इन कंपन को विद्युत तारों की तरफ स्थानांतरित करती है जो कि ध्वनि को Electronic तरंगों के रूप में Transmit करता है।

चूंकि Dynamic Microphone एक सरल और सामान्य डिजाइन और कार्यपद्धति का उपयोग करते हैं, तो वे आमतौर पर बहुत ही टिकाऊ होते हैं और इन्हें काम करने के लिए Electricity की आवश्यकता नहीं होती है।

ज्यादातर लाइव प्रोग्राम्स में इस तरह के Microphones का इस्तेमाल किया जाता है. इनकी कीमत भी ज्यादा नही होती है. इन माइक्रोफोन को किसी एम्पलीफायर या ऑडियो इंटरफ़ेस की मदद से इस्तेमाल किया जाता है.

Condenser Microphone क्या है ?

Microphone क्या है

Condenser Microphone भी Music Industry में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला Mic है. जो बड़े बड़े Production House और Music स्टूडियोज में सबसे ज्यादा Use होता है Music बनाने के लिए.

आसान शब्दों में Singers Music Studio में जिस Mic का प्रयोग करते हैं,उसे Condenser Mic कहते हैं.

Condenser Microphone आमतौर पर Audio रिकॉर्डिंग जैसे कामों लिए उपयोग किया जाता है। क्यूंकि कंडेंसर माइक्रोफोन आवाज़ के प्रति संवेदनशील होते हैं इसलिए इनका ज्यादा उपयोग Studio में किया जाता है.

प्रत्येक कंडेनसर माइक्रोफोन में एक Front Plate होती है, जिसे Diaphragm कहते हैं और एक Back Plate शामिल है जो सामने की प्लेट के समानांतर होती है।

जब Sound Waves (ध्वनी तरंग) Diaphragm(डायाफ्राम) पर आती है, तब यह दो प्लेट इन ध्वनि तरंगों को Electrical तरंगों में बदलती है।

यह परिवर्तन एक विद्युत संकेत के रूप में भेजा जाता है। Dynamic Microphone के विपरीत, Condenser Microphone को विद्युत शक्ति की आवश्यकता होती है।

यह Current उसी Microphone के साथ लगी हुई बैटरी (Battery) द्वारा प्रदान किया जा सकता है, लेकिन अक्सर बाहर की किसी विद्युत यंत्र से 48 Volt के रूप में प्रदान किया जाता है।

अगर आप घर पर खुद का Home Studio बनाना चाहते हैं, तब भी आपको इसी कंडेंसर माइक्रोफोन की आवश्यकता होगी रिकॉर्डिंग के लिए. इस Mic द्वारा कि गयी रिकॉर्डिंग कि Quality बहुत ही अच्छी होती है,जो Music Production में सबसे एहम है.

Ribbon Microphones क्या है ?

Ribbon Microphone भी अपने उच्च गुणवत्ता के लिए जाना जाता है। इसमें एक एल्यूमीनियम(Aluminium), ड्यूरालुमिनियम (Duraluminum) या नैनोफिल्म(Nano-film) से बनी एक पतली रिबन (Ribbon) होती है, जो चुंबकीय क्षेत्र (Magnetic Field) में काम करती है।

माइक्रोफोन की तरफ आती हुई ध्वनि तरंगें (Sound Waves) रिबन में कंपन (Vibration) पैदा करती हैं, कंपन की गति के आनुपातिक वोल्टेज भी बनाते हैं। यह वोल्टेज (Voltage) एक विद्युत संकेत के रूप में भेजा जाता है।

पहले जो रिबन माइक्रोफोन बनते थे, उन्हें आउटपुट वोल्टेज (Output Voltage) बढ़ाने के लिए ट्रांसफार्मर (Transformer) की आवश्यकता होती थी, लेकिन आज कल के रिबन माइक (Ribbon Mic) के मैग्नेट (Magnet) में सुधार हुआ है जो कि मजबूत संकेत प्रदान करते हैं।

कुछ कुछ रिबन माइक्रोफोन Dynamic माइक्रोफोन से भी मजबूत होते हैं। हालांकि रिबन माइक को काफी हद तक Condenser Mic से रिप्लेस कर दिया गया है.

Microphone ना केवल कई अलग-अलग कार्यप्रणाली के आधार पर आते हैं, बल्कि वे Audio को Capture करने के लिए कई प्रकार के डायरेक्शनल पैटर्न (Directional Pattern) का भी उपयोग करते हैं।

कुछ माइक्रोफोन सिंगल पोलर पैटर्न (Single Polar Pattern) के साथ डिज़ाइन किए जाते हैं, जबकि अन्य में स्विच होता हैं जो आपको एक अलग अलग प्रकार से रिकॉर्डिंग (Recording) उद्देश्य के लिए उपयुक्त Pattern का चयन करने की अनुमति देते हैं।

सबसे आम Pattern में से कुछ में शामिल हैं Cardioid, Bidirectional और Omnidirectional. आईये इनके बारे में बात करते हैं :

Cardioid Microphone क्या होता है?

यह Microphone एक दिल (Heart) या बीन के आकार का पैटर्न है, जो सिर्फ एक दिशा से ऑडियो कैप्चर (Audio Capture) करता है। आमतौर पर यह Vocal या वाद्य यंत्रों (Instruments) की रिकॉर्डिंग के लिए उपयोग किया जाता है।

Bidirectional Microphones क्या होते हैं?

Bidirectional Microphones अंक 8 की तरह की डिज़ाइन का पैटर्न वाला माइक्रोफोन है, जो दो अलग-अलग दिशाओं से ऑडियो Capture करता है।यह ऑडियो को दो अलग-अलग स्रोतों से Record करने या Reverb को Capture करने के लिए उपयोग किया जाता है।

Omnidirectional Microphone क्या होता है?

Omnidirectional Microphone एक वृत्तीय पैटर्न वाला माइक्रोफोन जो सभी दिशाओं से Audio Capture करता है। अक्सर गायक (Singer) या खुली जगहों की ध्वनि (Sound) के समूहों को Record करने के लिए उपयोग किया जाता है.

Conclusion (निष्कर्ष) :

हमने इस आर्टिकल में आपको Microphone से जुडी जानकारी प्रदान की है. संगीत जगत में Microphone की एहम भूमिका है. Music Production House हों या फिर बड़े बड़े Music Studio या फिर कोई Live Concert हो, हर जगह Mics का इस्तेमाल किया जाता है.

बस फर्क सिर्फ इतना है कि हर जगह इनका उपयोग अलग अलग तरीके से किया जाता है. Singing के लिए अलग माइक्रोफोन, Instruments के लिए अलग माइक्रोफोन और Studio में रिकॉर्डिंग के लिए अलग Mic’s का उपयोग किया जाता है.

आशा करते हैं आपको यह आर्टिकल पढ़ के कुछ Information जरुर मिली होगी. अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो हमें Comment करके जरुर बताएं. आर्टिकल पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *